Thursday, June 30News

Religious

पुरुषों का एकतरफा अधिकार है तलाक- ए- हसन ?

पुरुषों का एकतरफा अधिकार है तलाक- ए- हसन ?

Religious
भारत सरकार ने भले ही मुस्लिम समाज में बरसो से चली आ रही पारंपरिक प्रथा तलाक- ए- बिद्दत पर कानूनन रोक लगा दी हो लेकिन इसके बावजूद भी तलाक के मामले थमने का नाम नहीं ले रहें हैं। तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद अब तलाक-ए- हसन का मुद्दा सामने आया है। दरअसल, गाजियाबाद की रहने वाली बेनजीर हिना ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की है जिसमें उन्होंने यह मांग की है कि तलाक- ए – हसन और तलाक- ए – अहसन को भी तलाक- ए – बिद्दत यानी तीन तलाक की तरह ही असंवैधानिक घोषित कर दिया जाए। कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई..गौरतलब है कि आज हिना की ओर से पेश वकील और बीजेपी नेता अश्विनी उपाध्याय ने सुप्रीम कोर्ट से जल्द सुनवाई की मांग की है। उन्होंने कहा कि हिना के पति ने तलाक का दूसरा नोटिस भेज दिया है। तीसरा नोटिस 19 जून को आने के बाद तलाक हो जाएगा। उसके बाद शादी बहाल करने के लिए हलाला ही एक वि...
डाबर के विज्ञापन पर छिड़ी जंग, जानिए क्या है वजह?

डाबर के विज्ञापन पर छिड़ी जंग, जानिए क्या है वजह?

Religious
हाल ही में करवा चौथ को लेकर डाबर कंपनी ने एक विज्ञापन बनाया था। जिस पर अब बवाल हो गया था। इस विज्ञापन में करवाचौथ के दिन एक समलैंगिक जोड़े को करवा चौथ मनाते हुए दिखाया गया था, जिसके बाद लोगों को गुस्सा फूट पड़ा था। विज्ञापन में दो महिलाएं एक दूसरे को छलनी में से देख रही हैं और चांद को देख रही हैं। वैसे मान्यताओं के अनुसार, महिलाएं अपनी पति और चांद को छलनी में से देखती हैं। इस विज्ञापन पर लोग भड़क गए और उन्होंने आरोप लगाया कि इस तरह से हिंदू धर्म का मजाक बनाया जा रहा है और कंपनी पर कार्रवाई होनी चाहिए। इस विज्ञापन पर कई लोगों ने भावनाएं आहत होने का आरोप लगाया है। अब मध्‍य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्‍तम मिश्रा समेत कई लोगों ने इस पर कार्रवाई की मांग की है, जिसके बाद डाबर ने माफी मांगते हुए इस विज्ञापन को वापस लेने का फैसला किया है। https://twitter.com/DaburIndia/status/1452564874811...
ईसाई धर्मान्तरण के खिलाफ सड़क पर उतरा जैन समाज, धर्मान्तरण विरोधी कानून की मांग

ईसाई धर्मान्तरण के खिलाफ सड़क पर उतरा जैन समाज, धर्मान्तरण विरोधी कानून की मांग

Religious
ईसाई धर्मान्तरण के खिलाफ बेलगावी में सड़क पर उतरा जैन समाज, कर्नाटक सरकार से धर्मान्तरण विरोधी कानून की मांग। अवैध धर्मान्तरण के विरोध में कर्नाटक के बेलगावी जिले में जैन समाज ने एक बड़ी रैली आयोजित की। इस रैली में जैन समाज के तमाम संगठनों के पदाधिकारी और धर्मगुरु शामिल हुए। यह रैली गुरुवार (21 अक्टूबर 2021) को निकाली गई थी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इस रैली में बड़ी संख्या में जैन धर्म को मानने वाले लोग भी शामिल हुए। यह रैली रानी चेनम्मा सर्किल से शुरू हुई थी। रैली का समापन डिप्टी कमिश्नर कार्यालय पर जा कर हुआ। रैली में सामूहिक रूप से कर्नाटक में बढ़ रहे धर्मांतरण पर चिंता जताई गई। आयोजनकर्ताओं के अनुसार कित्तूर, बेलगावी, खानापुर, बाईहोंगल तालुका में बहुत व्यापक पैमाने पर धर्मान्तरण कराया जा रहा है। रैली ने प्रशासन से धर्मान्तरण को सख्ती से रोकने की मांग की। ...
बाबा के द्वार फिर हुआ चमत्कार, श्रद्धालुओं ने लगाई जय जयका

बाबा के द्वार फिर हुआ चमत्कार, श्रद्धालुओं ने लगाई जय जयका

Religious
आज अश्विन शुक्ल पूर्णिमा बुधवार को श्री चंद्रप्रभु दिगंबर जैन मंदिर अतिशय क्षेत्र प्यावड़ी पीपलू में हर पूर्णिमा की भांति इस पूर्णिमा के दिन फिर चमत्कार हुआ। श्रद्धालुओं ने श्रद्धा भक्ति भाव और समर्पण के साथ जोरदार जय जयकार से पूरा मंदिर परिसर गूंज गया। आज के प्रथम अभिषेक का सौभाग्य श्रेष्ठी श्री मति कृष्णबाला देवी इंद्रमल जी बाबूलाल जी प्रमोद कुमार जी पवन जी पलसा वाले गोयल परिवार लावा वालों को प्राप्त हुआ। इस बार तीन अतिशय एक साथ नगर आए पहला चमत्कार प्रथम अभिषेक करने से पहले भगवान का सूखे छन्ने से मार्जन किया गया तब एक चाँदी का सिक्का मूर्ति में से निकलकर वेदी पर गिरा दूसरा चमत्कार मार्जन वाले छन्ने को मार्जन करने के बाद में साफ़ और स्वच्छ बिना केसर के जल से भरी हुई झारी में डाला तो झारी के अंदर का पूरा जल केसर युक्त हो गया और छन्ने में केसर का गुच्छ देखने को मिला। तीसरा चमत्कार पाण्ड...
शरद पूर्णिमा पर निकले एक साथ दो चांद

शरद पूर्णिमा पर निकले एक साथ दो चांद

Religious
भारतीय संस्कृति एवं दर्शनशास्त्र की अमूल्य धरोहर हैं आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज। आचार्य श्री किसी धर्म, वेश, परंपरा या किसी महापुरुष का नाम नहीं- वरन-जीवन की खुली किताब का नाम है आचार्य विद्यासागर महाराज। हमें लगता है, कि दुनिया के महान संत, समाज सेवक, फकीर, दार्शनिक, अध्यात्मिक नेता, विकास पुरुष, योजना विद, शिक्षाविद, अर्थशास्त्री, नीति निर्माता, प्रबंधन गुरू, राष्ट्र निर्माता, शांति के मसीहा, क्रांतिकारी विचारों वाली विभूतियों को मिलाकर, भगवान से कहां जाए, इस रत्नगर्भा वसुन्धरा पर कोई ऐसी रचना करें, जो अलौकिक, अद्वितीय और अनूठी हो। तो वह कृति, निश्चय ही आचार्य विद्यासागर जी महाराज जी होंगे। सौम्य स्मित मुद्रा, ललाट पर साधना की जगमगाहट, मुख मंडल पर प्रशांति का अज्रस प्रभाव, प्रतिकूल परिस्थितियों में भी सर्वथा तनाव का अभाव, निर्भय के निरूप, साहस के शूर, स्वाभिमान की शिखर, दृढ...
Sharad Purnima 2021: जानें कब है शरद पूर्णिमा, आखिर क्यों बनाई जाती है इस दिन खीर

Sharad Purnima 2021: जानें कब है शरद पूर्णिमा, आखिर क्यों बनाई जाती है इस दिन खीर

Religious
नई दिल्ली। शरद पूर्णिमा को बेहद पुण्यकारी और शुभ माना जाता है। इसके साथ ही यह मान्यता है कि शरद पूर्णिमा की रात चंद्रमा 16 कलाओं से परिपूर्ण होता है और चंद्रमा से निकलने वाली किरणे अमृत के समान होती है। शरद पूर्णिमा की रात को मां लक्ष्मी की पूजा करने से मां खुश होकर अपने भक्तों पर कृपा बरसाती है और कुछ लोग इस दिन व्रत भी करते हैं। कहा जाता है कि व्रत करने से मां लक्ष्मी घर में धन- धान्य की बारिश करती है और सुख शांति का वरदान देती है। आइए जानते हैं शरद पूर्णिमा की तिथि और शुभ मुहूर्त के बारे में साथ ही इस दिन किए जाने वाले कुछ उपायों के बारे में भी। जाने शरद पूर्णिमा की तिथि और शुभ मुहूर्तशरद पूर्णिमा की तिथि 19 अक्टूबर 2021 को शाम 7 बजकर 05 मिनट से प्रारंभ होगी और यह 20 अक्टूबर 2021 की रात 8 बजकर 28 मिनट और 26 सेकंड पर समाप्त हो जाएगी। शरद पूर्णिमा के दिन किए जाने वाले उपायआ...
नवरात्र की अष्टमी पर हुई महागौरी की पूजा-अर्चना

नवरात्र की अष्टमी पर हुई महागौरी की पूजा-अर्चना

Religious
बुधवार को नवरात्र के आठवें दिन मातारानी के अष्टम स्वरूप मां महागौरी की श्रद्धालुओं ने पूजा-अर्चना कर निरोगी रखने की कामना की। सुबह से ही घरों में घंटे, घडियाल, शंख, आदि की गूंज से वातावरण गुंजायमान हो उठा। जयकारा लगाते हुए भक्तों ने मातारानी से कोरोना महामारी का खात्मा करने की प्रार्थना की। आज शारदीय नवरात्रि की अष्टमी है धार्मिक लिहाज से नवरात्रि की अष्टमी तिथि की बहुत महिमा होती है. आज भक्तों ने मां दुर्गा के 8वें स्वरुप महागौरी की पूजा-अर्चना की। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, जब महागौरी की उत्पत्ति हुई उस समय उनकी उम्र आठ साल थी इसलिए इनकी पूजा अष्टमी के दिन की जाती है. ये देवी सदा सुख और शान्ति देती है. अपने भक्तों के लिए यह अन्नपूर्णा स्वरूप है इसलिए मां के भक्त अष्टमी के दिन कन्याओं का पूजन और सम्मान करते हुए महागौरी की कृपा प्राप्त करते हैं। महागौरी की पूजा करने से लोगों ...
देशभर में महानवमी की धूम आज, योगी आदित्यनाथ ने दी बधाई

देशभर में महानवमी की धूम आज, योगी आदित्यनाथ ने दी बधाई

Religious
नई दिल्ली। पूरे देश भर में आज धूमधाम से महानवमी मनाई जा रही है महानवमी के दिन मां दुर्गा के सिद्धिदात्री स्वरूप की पूजा की जाती है। इस मौके पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों को महानवमी की बधाई दी है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने लोगों से महानवमी के अवसर पर कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पूर्ण पालन करने की अपील की है। बता दें कि योगी आदित्यनाथ अपने चार दिवसीय यात्रा गोरखपुर दौरे पर है। जिस दौरान योगी आज गोरखपुर के मंदिर में कन्या पूजन करेंगे। मंदिर में पूजन करने के बाद सीएम योगी गोरखपीठाधीश्वर मां भगवती के नौ स्वरूपों की पूजा करेंगे। कू एप पर मुख्यमंत्री योगी ने दी बधाई योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को कू एप पर रामनवमी की बधाई दी। उन्होंने कहा माँ दुर्गा महानवमी की सभी प्रदेशवासियों व श्रद्धालुओं को हार्दिक शुभकामनाएं। माँ सिद्धिदात्री से प्रार्थना है कि हम सब...
आज है दुर्गा अष्टमी व्रत, जानें मां पार्वती को क्यो कहते है गौरी

आज है दुर्गा अष्टमी व्रत, जानें मां पार्वती को क्यो कहते है गौरी

Religious
नई दिल्ली। आज यानी 13 अक्टूबर 2021 को दुर्गा अष्टमी है। नवरात्रि में दुर्गा अष्टमी व्रत का विशेष महत्व होता है। आमतौर पर ज्यादातर घरों में अष्टमी का पूजन किया जाता है और नवमी के दिन कन्या भोज किया जाता है। वहीं कुछ घरों में सप्तमी का व्रत करके अष्टमी के दिन कन्या पूजन किया जाता है। मां पार्वती को क्यो कहते है गौरीकहा जाता है कि भगवान शिव को पाने के लिए कई वर्षों तक मां पार्वती ने कठोर तप किया था। जिससे उनके शरीर का रंग काला हो गया था। जब भगवान शिव उनकी तपस्या से प्रसन्न हुए तो उन्होंने उनको गौर वर्ण का वरदान भी दिया। इससे मां पार्वती महागौरी भी कहलाईं। दुर्गा अष्टमी को व्रत करने और मां महागौरी की आराधना करने से व्यक्ति को सुख, सौभाग्य और समृद्धि की प्राप्ति होती है। जानें अष्टमी तिथि के शुभ मुर्हूतहिंदू पंचांग के अनुसार, आश्विन मास के शुक्ल पक्ष 12 अक्टूबर, दिन मंगलवार को रात 09...
सात दिवसीय कथा यज्ञ अनुष्ठान सहित हुआ समापन

सात दिवसीय कथा यज्ञ अनुष्ठान सहित हुआ समापन

Religious
कपिल शर्मा नाँगल चौधरी। हरियाणा जिला महेंद्रगढ़ कस्बा नाॅंगल चौधरी में सात दिवसीय श्रीमद् भागवत कथा का समापन शनिवार को यज्ञ अनुष्ठान पूर्ण आहूती के साथ सम्पन्न हुआ। इस शुभ अवसर पर सभी श्रद्धालुओं की उपस्थिति दिखी, साथ ही सभी श्रद्धालुओं और भक्तों ने हवन साम्रगी से अग्नि हवन कुण्ड में पूर्ण आहूती प्रदान की और नवरात्रों के विशेष पावन पर्व पर व्यासपीठ कृष्णा किशोरी के कर कमलों से आशिर्वाद ग्रहण करते हुए प्रसाद प्रसाद प्राप्त किया और ईश्वरीय भक्ति मार्ग पर प्रतिबद्ध रहने का आश्वासन दिया। शनिवार दो अक्टूबर आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी से प्रारंभ हुई यह साप्ताहिक श्रीमद् भागवत् कथा में आस्था और श्रद्धा रखनेवाले भगवान के प्रिय भक्त प्रतिदिन कथा पंडाल में सैकड़ों की संख्या में पहुंचे और व्यासपीठ आचार्या कृष्णा किशोरी द्वारा कमल मुख से श्रीमद् भागवत् पुराण कथा का श्रवणपान किया। ...