Thursday, June 30News

जुलाई से और मंहगा हो जाएगा कच्चा तेल

भारत सहित पूरे एशिया के लिए जुलाई महिने से कच्चे तेल की कीमतों में बेताहाशा बढ़ोतरी होने वाली है. जुलाई महिने से सउदी अरब के अरब लाइट क्रूड ऑयल की आधिकारिक बिक्री कीमत में 2.1 डॉलर प्रति बैरल का इज़ाफा हो जाएगा. विश्लेषको ने तेल की कीमत में इस इज़ाफे को अनुमान से ज्यादा बताया है. विश्लेषको का कहना है कि कच्चे तेल की कीमत में 1.5 डॉलर प्रति बैरल की बढ़ोतरी का अनुमान लागाया गया था. कच्चे तेल की कीमत में इतने बड़े इज़ाफे का अंदाज़ा नहीं था. वो भी अरब लाइट क्रूड ऑयल की कीमत में तो बिल्कुल भी नहीं.  

बढ़ती गर्मी के कारण हुआ कीमत मे इज़ाफ़ाः

इस वक्त पूरे विश्व में झुलसा देने वाली गर्मी पड़ रही है. वहीं तेल की कीमतों मे हुए इस इज़ाफे का कारण भी गर्मी को बाताया जा रहा है. दरअसल, गर्मियों में तेल की मांग बढ़ रही है जिसको देखते हुए सऊदी अरब ने कच्चे तेल की कीमतों में इज़ाफा करने का फैसला लिया है. बता दें कि रूस और यूक्रेन के बीच चल रहा युद्द भी तेल की कीमतों में बढ़ोतरी की बजह बना हुआ है. युद्ध के कारण पश्चिमी देश रूस पर आर्थिक प्रतिबंध लगा चुके हैं.

IMAGE CREDIT GOOGLE

वहीं रूस के बदले तेल की भरपाई करने के लिए ओपेक प्लस देशों ने तेल का उत्पादन बढ़ाने का फैसला लिया है. हालांकि भारत और चीन ने रूस पर लगाए गए प्रतिबंधों से खुद को अलग रखा और सस्ती कीमत पर रूस से कच्चा तेल धड़ल्ले से खरीदा. लेकिन भारत सऊदी अरब से भी बड़ी मात्रा में तेल का आयात करता है.

सऊदी अरामको ने की है कीमत में बढ़ोतरीः

बता दें कि सऊदी अमारको दुनिया में तेल की सबसे बड़ी कंपनी है. अमारको ने ही जुलाई महिने से कच्चे तेलकी कीमतों में बढ़ोतरी का फैसला लिया है. यह फैसला ओपेक प्लस देशों के हर दिन 648,000 प्रति बैरल तेल के   उत्पादन को बढ़ाने के समझौते के अलावा हुआ है. सऊदी अरामको ने रविवार को यूरेपियन औऱ भूमध्य देशो के लिए कच्चे तेल की कीमतों को लेकर ये फैसला किया था. हालांकि अमेरिका के लिए इस कीमत में कोई बदलाव नहीं किया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.