Thursday, June 30News

वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप में निकहत जरीन ने रचा इतिहास

pc:social media

भारतीय मुक्केबाज निकहत जरीन(Nikhat zareen) ने वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप में भारत के लिए स्वर्ण पदक जीतकर खेल जगत में भारत का नाम रौशन कर दिया है। तुर्की के इस्तांबुल में होने वाले महिला विश्व चैंपियनशिप का गुरूवार को फाइनल हुआ। जिसमें निकहत ने 52 किलो भार वर्ग में थाईलैंड की मुक्केबाज जितपॉन्ग जुटामस ( Jitpong jutamas) पर अपने मुक्को के वार बरसाकर 5-0 से मात दी। जिटपॉन्ग टोक्यो ओलंपिक की रजत पदक विजेता रह चुकी है। निकहत ने पूरे टूर्नामेंट में अपनी विरोधी खिलाड़ी पर अपना दबदबा बनाए रखा और आखिरकार फाइनल बाउट में जजों ने 30-27, 29-28, 29-28, 30-27, 29-28 से भारतीय मुक्केबाज के पक्ष में वोट दिया।

बता दें कि इससे पहले 2019 की एशियन चैंपियनशिप में निकहत ने भारत के लिए कांस्य पदक जीता था। जबकि इसी टूर्नामेंट में निकहत ने ब्राजील की कैरोलिम डि एलमेडा को 5-0 से हराया। तेलंगाना के हैदराबाद की रहने वाली निकहत मुकाबले के दौरान अपने बहतरीन फॉर्म में थी। मुकाबले के पहले दौर में जरीन के प्रदर्शन ने जजों को काफी प्रभावित किया, जबकि दूसरा दौर कड़ा रहा और जितपॉन्ग ने इसे 3-2 से जीत लिया। जरीन के लिए यह वर्ष शानदार रहा क्योंकि वह इस वर्ष फरवरी में स्ट्रेंजा मेमोरियल में दो स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बन गई है।

भारत की ओर से इस बार 12 सदस्यी टीम गई थी। जिसमें भारत ने 1 स्वर्ण और दो कांस्य पदक जीते। मनीषा मौन (57 किग्रा वर्ग) और विश्व चैंपियनशिप में पहली बार आई प्रवीण हुड्डा(67 किग्रा वर्ग) ने कांस्य पदक जीता। भारत की लीजेंड बॉक्सर मैरीकॉम इस चैंपियनशिप में 6 बार स्वर्ण पदक (2002,2005,2006,2008,2010,2018) जीत चुकी है। इसके साथ ही सरीता देवी(2006), जेनी आरएल(2006), लेखा केसी(2006) में चार पदक जीते जा चुके है। 2022 में यह पांचवा पदक है। और अब भारत पेरिस ओलंपिक में अपना झंडा फहराने के लिए तैयार है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.