Saturday, August 13News

नेशनल हाईवे 148बी के किनारे पर बना नाला क्षतिग्रस्त ग्रामीण आवास तक पहुंचा पानी, जिम्मेदार नहीं दे रहे ध्यान

नाॅंगल चौधरी। शहर की ओर गुजरते नेशनल हाईवे 148बी किनारे बने नाले के टूटने से बरसात का सारा पानी खेतों से होते हुए नजदीक गाँव नौलपुर मार्ग बने मकानों तक पहुंच रहा है। हाईवे के किनारे क्षतिग्रस्त नाले को लेकर ग्रामीणों ने नाराजगी जाहिर की है। खेतों के समीप बने मकानों की नींव में पानी का रीसाव होने से और दिवारों में सीपेज और दरारें भी बढ़ने लगी हैं। बारिश के दिनों में लबालब जलभराव की स्थिति से ग्रामीणों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

ग्राम्य नागरिकों ने बताई गंभीर समस्या

न्यूजपोर्ट को जानकारी देते हुए ग्राम्य नागरिक सुनील कुमार ने बताया कि, एनएच148बी के नीचे बने बरसाती नाले को गाँव की ओर छोड़ा गया है।

पानी का बहाव खेतों से होता हुआ ढलान में गाँव के मकान तक पहुंच गया और जलजमाव की स्थिति से पानी में सड़न उत्पन्न हो गई है। जिससे मलेरिया मच्छरों के पनपने और बिमारियों को न्यौता दे रहा है। जलभराव की वजह से घरों की सीलन के साथ-साथ दिवारों में दरार आनी शुरू हो गई है। जिससे हादसे संभावना बढ़ गयी है। उन्होंने बताया कि जिम्मेदार इस संबंध में बिल्कुल सुध नहीं ले रहे हैं। उन्होंने एनएचआई अफसरों से बरसाती नाले की रोकथाम को लेकर और नाले की निकासी को किसी अन्य दिशा में छोड़ने के लिए अपील की जिससे भूजल रीचार्ज हो सके और ग्रामीणों को असुविधा का सामना न करना पड़े।

वार्ड पार्षद की अफसरों से अपील

गांव नौलपुर वार्ड नंबर 5 पार्षद शकुंतला देवी के प्रतिनिधि सतपाल डांगी ने इस समस्या पर न्यूजपोर्ट से बातचीत में बताया कि, बिते एक साल से इस समस्या का निवारण नहीं हो पाया है।

हाइवे निर्माण के अंतर्गत बरसाती नाले को गाँव की ओर छोड़ दिया गया। मानसून के चलते ग्रामीण आवास के घरों तक पानी पहुंच जाता है। जलभराव की स्थिति उत्पन्न होने से ग्राम्य नागरिकों को समस्या का सामना करना पड़ रहा है। पार्षद प्रतिनिधि ने एच148बी संबंधित अधिकारियों से आग्रह करते हुए समस्या के समाधान की गुहार लगाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.