Newjport

बिहार में नीतीश कुमार की सरकार ने विधानसभा में विश्वास मत हासिल कर लिया है! नीतीश सरकार के समर्थन में 129 वोट पड़े, जबकि विपक्ष ने वोटिंग से पहले ही वॉकआउट कर दिया था! लेकिन विपक्ष ने भी नीतीश कुमार की सरकार को गिराने के लिए लंबा ‘खेल’ खेला था! हालांकि, एनडीए ने इसे नाकाम कर दिया और ये सब हुआ स्पीकर अवध बिहारी चौधरी को अविश्वास प्रस्ताव के जरिए हटाकर!

आरजेडी ने नीतीश को गिराने के लिए की थी प्लानिंग

आरजेडी ने नीतीश सरकार को गिराने के लिए सत्तापक्ष के आठ विधायकों के साथ प्लानिंग रची थी! इनमें जेडीयू के पांच विधायक और बीजेपी के तीन विधायक थे! जेडीयू के पांच विधायकों में बीमा भारती, मनोज यादव, सुदर्शन, डॉ संजीव और दिलीप राय शामिल थे! वहीं, बीजेपी के विधायकों में रश्मि वर्मा, भागीरथी देवी और मिश्रीलाल यादव थे! लेकिन इसकी भनक एनडीए को पहले ही लग गई और फिर सरकार बचाने का ऑपरेशन शुरू हुआ! जेडीयू के विधायकों डॉ संजीव, सुदर्शन और मनोज यादव को सुबह तक ढूंढ निकाला गया! 

ये था आरजेडी का प्लान

आरजेडी की तैयारी थी कि सत्तापक्ष के विधायकों को सदन में अनुपस्थित कर पहले अपने स्पीकर अवध बिहारी चौधरी की कुर्सी बचाई जाए! इसके बाद स्पीकर के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव सदन में गिरने के बाद सत्तापक्ष के विधायकों को स्पीकर से अलग गुट की मान्यता दिलवाई जाए! इसके बाद फ्लोर टेस्ट में एनडीए सरकार को पटखनी दी जाए!

विधानसभा स्पीकर अवध बिहारी चौधरी के खिलाफ जब सदन में अविश्वास प्रस्ताव आया तो सत्तापक्ष के पांच विधायक कम थे! इस पर एनडीए ने आरजेडी के तीन विधायकों को अपने पाले में कर लिया और वोटिंग में 112 के मुकाबले 125 वोट से अवध बिहारी चौधरी की कुर्सी चली गई! ऐसे में स्पीकर की कुर्सी जाते ही आरजेडी का खेल बिगड़ गया!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *